April 26, 2017 3:59 AM
Breaking News

चीन में शादियों की वो घटिया रस्म जिसे सुनकर आपके होश उड़ जाएंगे

हिन्द न्यूज डेस्क। शादी शब्द का अर्थ तो अपने भारत देश में बेहद पवित्र माना जाता है जब दो नवयुवको का आपस में मिलन होता है तो तमाम रस्में होती है. जैसे जूता चुराई , दुल्हे के साथ हंसी – मजाक खूब होता है लेकिन चीन की सभ्यता भारत की सभ्यता से बिलकुल अलग है वहां जब यवयुवको की शादी होती है तो वहां के जोड़ो को बेहद शर्मनाक रस्मों का सामना करना पड़ता है. चलिये आज कुछ बातें आपसे साझा करते है.

चीन की घटिया रस्में

चीन में भी एक रस्म है ‘नोउहान’, जिसमें शादीशुदा जोड़े से सुहागरात को लेकर कुछ मज़ाक किए जाते हैं और दुल्हन की सहेलियों को भी थोड़ा बहुत छेड़ा जाता है. अब इस किताबी परिभाषा को भूल जाइए. सच्चाई ये है कि नोउहान के नाम पर चीन में जो हो रहा है वो पूरी दुनिया को शर्मसार करने वाली घटना है.

यह भी पढ़े- लड़कियां जब रूम में अकेली होती है तो करती है कुछ ऐसा

दुल्हन की सहेलियों के साथ अश्लील हरकते

मार्च में चीन के अभिनेता ‘बाओ बेरिअर’ और अभिनेत्री ‘बाओ वेन्क्वियान’ की शादी के समय एक वीडियो वायरल हुआ. दुल्हन की सहेली ‘लियु यान ‘ को 5 लड़के पकड़ कर उठाए हुए थे और पूल में फेंकना चाहते थे. लियु रो रहीं थी और चिल्लाए जा रही थीं मगर कोई सुन नहीं रहा था. बाद में किसी और लड़की ने लियु को कैसे भी बचाया. इसके बाद सोशल मीडिया पर जो बहस शुरू हुई उसमें भी कई लोगों ने लियु यान को ही दोषी ठहराया.

यह भी पढ़े- चेक करते रहिये अपना फोन कभी भी बंद हो सकता है आपका व्हाट्सएप

सबके सामने सेक्स करने की नकल करना

ये बात यहीं पर खत्म नहीं होती. नोउहान का ही एक हिस्सा है जिस्में जोड़े को पूरी बारात के सामने सेक्स करने की नकल करके दिखाना होता है. समय के साथ इस रस्म में से नकल शब्द गायब हो गया है. इसके साथ ही दुलहन की सहेलियों के साथ हंसी मज़ाक की जगह सेक्सुअल असॉल्ट ने ले ली है.

लड़कियां विरोध करती हैं, सरेआम उनके कपड़े उतारे जाते हैं. उनके साथ वो सब होता है, जो विकृत है,  जिसकी वजह से हिंदुस्तान में कई बड़े नाम बलात्कार के आरोप में बंद हुए हैं.

चीन में महिलाएं और युवतियां इसका मुखर होकर विरोध करती हैं, लेकिन कुछ लोग अब भी ऐसे घटिया रिवाजों को संस्कृति का हिस्सा और मजाक के नाम पर चालू रखने के पक्षधर हैं. उनका मानना है कहीं न कहीं ये सब उन्हें पीछे कहीं से जोड़े रखता है, समझ नहीं आता ये बात कहां से उन्हें तर्कसंगत लगती है.

loading...