September 20, 2017 1:05 PM
Breaking News

आपका शीशा ही आपको बना रहा बदनसीब

हिन्द न्यूज़ डेस्क (NITIKA SRIVASTAVA)। दर्पण हमारी जिन्दगी में कितना महत्व रखता है इसका अंदाजा तो आपको भी होगा. दिन की शुरुवात होने से लेकर रात को सोने तक दर्पण के बिना काम ही नही चलता. बाज़ारों में दर्पण की कई वैराइटी देखने को आराम से मिल जाती है, जिसमे न जाने कितने आकार के दर्पण आपको आकर्षित भी करते है, लेकिन क्या आपको इस बात का भी अंदाजा है की जो दर्पण हम देखते हैं वो कहीं न कहीं हमें बदनसीब भी बना रहे हैं. ये जितना आश्चर्यजनक है इसका कारण जानकर आप भी दंग रह जाएंगे. तो आज हम आपको बताते हैं की असल में किस तरह का दर्पण आपको आपके घर में रखना चाहिए. जो आपकी तरक्की के रस्ते खोल देगा.

dm_blue_framingmirror_step6_

यह भी पढ़ें- बसपा ने जारी की तीसरी लिस्ट, 50 फीसदी सीटें दलित और मुस्लिमों को

वास्तु व‌िज्ञान के अनुसार दर्पण सकारात्मक और नकारात्मक उर्जा में फर्क नहीं करता है उसके सामने जैसी उर्जा आती है उसे वापस पलट देती है इसल‌िए दर्पण को वास्तु व‌‌िज्ञान में बहुत ही महत्व द‌िया गया है। वास्तु वैज्ञान‌िक घर के वास्तु दोष को दूर करने के ल‌िए दर्पण का भी प्रयोग करते हैं। कई वास्तु वैज्ञान‌िक मानते हैं क‌ि दर्पण को लेकर हुई गलती लोगों स्वास्‍थ्‍य, धन और उन्नत‌ि में बाधक भी बन जाती है इसल‌िए दर्पण का प्रयोग बहुत ही सावधानी के साथ करना चाह‌िए।

सोने के कमरे में में  भूल कर भी न रखें दर्पण

designlens_browns-and-greens_s4x3-jpg-rend-hgtvcom-966-725

शयन कक्ष में दर्पण नहीं रखें। अगर ऐसा करना कठ‌िन हो तब दर्पण को ऐसे रखें क‌ि सुबह ब‌िस्तर से उठते ही उसमें आपकी सूरत नहीं देखे यानी दर्पण ब‌िस्तर के सामने नहीं हो।

टुटा दर्पण देखा तो स्वास्थ्य पर पड़ेगा असर

3166620216_4a9a70ec60_z

दर्पण का शीशा चटक गया हो तो उसे घर में नहीं रखें। दरार वाले शीशे से लौटने वाली रोशनी घर पर नकारात्मक प्रभाव डालती है इससे पर‌िवार के सदस्यों के बीच दूर‌ियां बढ़ती है। ऐसे दर्पण में चेहरा देखने से स्वास्‍थ्य की हान‌ि होती है।

ये हैं दर्पण रखने की सही दिशा

addison-round-mirror-o

दर्पण के ल‌िए घर में उत्तर, पूर्व और उत्तर पूर्व द‌िशा द‌िशा को वास्तु व‌िज्ञान में शुभ माना गया है इससे सकारात्मक उर्जा का प्रवेश घर में होता है।

गोल दर्पण न करें इस्तेमाल

rainbow-mosaic-mirror

गोल आकृत‌ि का दर्पण वास्तु व‌िज्ञान के अनुसार अनुकूल नहीं होता है। आयताकार और वर्गाकार दर्पण का प्रयोग वास्तु के ह‌िसाब से अच्छा होता है। घर के दक्ष‌‌िण या पश्‍च‌िम द‌िशा द‌िशा में दर्पण का होना कष्टकारी होता है। इसल‌िए इस द‌िशा में दर्पण नहीं लगाएं।

वाशरूम में यहां लगाएं दर्पण

1

दर्पण पर धूल म‌िट्टी नहीं जमने दें और यह भी ध्यान रखें क‌ि आपके घर में बेसमेंट है या नैऋत्य कोण यानी दक्ष‌िण पश्च‌िम में टॉयलेट-बाथरूम है तो पूर्वी दीवार पर एक वर्गाकार दर्पण लगाएं इससे वास्तु दोष दूर होगा।

loading...