February 27, 2017 12:11 PM
Breaking News

अपने खाने में करें इन सब्जियों का इस्तेमाल हमेशा रहेंगे सेहतमंद

हिन्द न्यूज़ डेस्क :जैसे-जैसे आपकी उम्र में इजाफा होता जाता है वैसे-वैसे आपकी सोचने की क्षमता कम होती जाती है. ऐसा इसलिए होता है क्योकि आपका खानपान दिमाग की कोशिकाओं पर बहुत ही गहरा प्रभाव छोडता है और यही आपकी कमजोरी का कारण बनता है. जिसे आप कहीं तक एग्नोर भी करते है. इसलिए आप ज्यादा दिनों तक किसी भी बात को याद रखने में सक्षम नहीं हो पाते हैं.

2017_01_07_10_47_21_fruits2

ऐसे में फल, सब्जियां, जैतून का तेल और मछली जैसी चीजें अपने आहार में शामिल करना सेहत के लिए अच्छा होता है.

स्काटलैंड के एडिनबर्ग विश्वविद्यालय के मिशेल लुसियानो ने एक रिसर्च में बताया- “हमारी उम्र बढ़ने के साथ दिमाग सिकुड़ता है और हम दिमाग की कोशिकाओं को खो देते हैं. इसका असर हमारे सीखने और यादाश्त पर पड़ता है. इस अध्ययन से प्रमाण मिलता है कि भूमध्यसागरीय आहार का दिमाग के स्वास्थ्य पर सकारात्मक पड़ता है.

अध्ययन के लिए शोधकर्ताओं ने 967 स्काटिश लोगों के खाने की आदतों का संग्रह किया। इनकी आयु करीब 70 साल रही और इन्हें डिमेंशिया नहीं थी.निष्कर्षों से पता चलता है कि भूमध्यसागरीय आहार का सही से पालन नहीं करने वालों में तीन साल बाद दिमाग के कुल आयतन में ज्यादा नुकसान देखने को मिला. यह नुकसान आहार का पालन करने वालों की तुलना में तीन गुना ज्यादा था.

phpthumb_generated_thumbnail

दिमाग के कुल आयतन में भिन्नता की वजह आहार में अंतर 0.5 फीसद होना था. यह सामान्य उम्र की तुलना में दिमाग पर पड़ने वाले प्रभाव का आधा था. इसके अलावा मछली और मांस का उपयोग दिमाग में बदलाव से नहीं जुड़ा था.यह पहले के अध्ययन विपरीत रहा. लुसियानो ने कहा, “यह संभव है कि भूमध्यसागरीय आहार के दूसरे घटक इस संबंध के लिए जिम्मेदार हों या यह सब सभी घटकों के संयोजन से हुआ हो.